हमें इ-मेल द्वारा फोल्लोव करें! और हज़ारो लोगो की तरह आप भी इस ब्लॉग को सीधे इ-मेल द्वारा पढ़े!

Saturday, 19 October 2013

प्यार तो खुद आपके पास भी बहुत है

कुछ लोगो को प्यार के पीछे भागते देखा है हमने कई बार, पर मेरा मानना है की उन लोगो को तो प्यार का एहसास तक नहीं है, तब ही तो वो उसके पीछे भाग रहा है! दुनिया की इस दौड़ धुप में हर आदमी कुछ न कुछ चाहता है, हर दम किसी को ढूँढना और पाना चाहता है। हर दिल में यही ख्वाहिश होती है की कोई हो जो उसे बहुत ज्यादा प्यार करे, उसका हर दम ख्याल रखे, उसकी भावनाओं को समझे।।



पर दोस्तों, हम हमेशा ऐसा ही क्यों चाहते है "की कोई ऐसा हो..." हम हरदम किसी में अपना हमदम क्यों ढूँढ़ते हैं..? पर शायद हम इसी में गलती करते हैं, जो हम हमेशा अपना प्यार दुसरो में ढूँढ़ते हैं। बचपन में जब मुझे प्यार का एहसास नहीं था तब में हमेशा सोचता की अगर भगवन ने हमें दिल दिया है तो वो दीखता क्यों नहीं? और अगर विज्ञान कहता है की दिल एक इंजन है जिस से हम जीते हैं। तो आशिक हमेशा दिल टूटने पर रोते क्यूँ हैं?
अरे भाई, ज़िन्दा हो इसका मतलब है की दिल टूटा नहीं है.. सिर्फ ज़ख़्मी हुआ है..! है ना..?

खैर, हम हमेशा अपने दुखों को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं.. क्योंकि किसको कितनी ज्यादा अहमियत देनी है हम अच्छी तरह से जानते हैं.. में सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ की बचपन से जवानी तक, जवानी से बुढ़ापे तक हम हमेशा किसी न किसी चीज़ की डिमांड ही करते हैं, कभी पैसे की, कभी सुख-सुविधाओं की, कभी  शांति की, तो कभी प्यार की.. हम डिमांड बहुत ज्यादा करते हैं पर सप्लाई बहुत कम।। 

हमें प्यार बेशुमार चाहिए पर उसे पाने की और निभाने की क्षमता बहुत कम। जब हम चाहते हैं की हमें बहुत प्यार करने वाला जीवनसाथी चाहिए, तब हम ये क्यूँ भूल जाते हैं की सामने वाला व्यक्ति भी हमसे वही चाहता है, इसीलिए तो पास आया है। ऐसे तो दो व्यक्ति हमेशा एक दुसरे को आजमाते रहेंगे, और एक दुसरे की अपेक्षा में खरे नहीं उतर पाएंगे! क्यूंकि हम चाहते हैं की "हमें प्यार मिले"… "कोई मेरा हो जाये"… पर ये नहीं सोचते की में किसी का हो जाऊ। सच्चा प्यार हमेशा निस्वार्थ होता है, प्यार किसी को पाना नहीं, पर खुद उसमे खो जाना है…  प्यार वो है की कोई इसीलिए जीता है "क्योंकि मेरा हमदम है…!"

हमें प्यार की तलाश करने की कोई ज़रूरत नहीं, क्यूंकि हमें सच्चे प्यार की बहुत कम समझ है। क्यूंकि जब तक हम तलाश करते हैं, किसी का प्यार हाथ से छुट जाता है। और जब तलाश ख़त्म होती है तब तक वो वक़्त और मौका हाथ से निकल चूका होता है.. बस दोस्तों दिल में इतना प्यार रखिये की अगर आप वो किसी को भी दे तो वो एक पल भी आपके बिना जी ना पाए… 
सनम हो न हो, प्यार मिले न मिले, उसे बाटना चहिये… दुनिया में बहुत से रिश्ते हैं, जो शायद हमें प्यार करने के लिए ही मिले हैं। भगवान् ने सिर्फ हमें दो चीज़े दी हैं, एक है वक़्त और एक है प्यार! दोस्तों अगर प्यार खोजते रहोगे तो वक़्त निकल जायेगा और अगर सच्चे प्यार को खो दोगे तो वक़्त तुम्हे हराएगा! जो रिश्ते हमारे पास हैं अगर हम उन्ही में अपना प्यार नहीं बाट सकते तो किसी नए को क्या देंगे।।

Love yourself, Love everyone……
Who knows love when enter your life……..!

वक़्त का सदुपयोग करो, अपना करियर बनाओ… और रही प्यार की बात तो वो आपके पास ही है! ये वो कस्तूरी है जिसके पीछे हर मृग दीवाना है, हर दम उसे ढूँढता है पर भूल जाता है की वो तो खुद में इतनी भरी पढ़ी है की अगर तुम उसे न दो तो खुद पागल हो जाओगे इस खोज में.… 
आप पागल मत बनिए बल्कि खुद में झाकिये, प्यार आपके पास बहुत है.. ज़रूरत है तो सिर्फ उसे महसूस करने की और बाटने कि… 


Do not run through life so fast that you forget not only where you have been,
but
Also where you are going...
Life is not a race,
but
A journey to be savored each step of the way...

23 comments:

  1. Many of us are taught from a young age to "love our neighbors as we love ourselves." But what if we don't love ourselves? What if we are our own worst enemy, and our own harshest critic? If we treat others as we treat ourselves, then are we judging everyone else with the same harsh brush that we are using to paint ourselves? Is this why there are more people on our planet obsessed with trying to condemn anyone who is different, instead of learning to embrace everyone who shares our earth, and rejoice in our differences?

    Learning to love others begins with learning to love ourselves unconditionally first. This seems to be a well-kept secret, which no one taught me as I was growing up. On the contrary, I was encouraged from a young age to put myself last, that it is selfish to love ourselves, or put ourselves first. In fact, I used to give and give of myself, without tending to my own needs, to the point that I became so drained it started to affect my health. Continuing in this vein, I constantly believed that I needed to work on myself because I wasn't good enough as I am. So I continued to work on being "better," kinder, more "loving," more "spiritual." I was always judging myself because I never felt I made the mark.

    ReplyDelete
  2. Very true
    Bohot sahi likha hai
    dhanyawad

    ReplyDelete
  3. Sanker...... i like this page and this thought i wanna more this thoughts ......

    ReplyDelete
  4. pyar khud se karo ....yeah jahan tum se pyar karega ....

    ReplyDelete
  5. Very Nice And True Lines ...
    Thank You ...........Thank you

    ReplyDelete
  6. nice thoughts. very effective.....................................

    ReplyDelete
  7. 11guowenha0921
    real madrid jersey, http://www.realmadridjerseystore.com/
    nike air huarache, http://www.nike-airhuarache.co.uk/
    fred perry polo shirts, http://www.fredperrypoloshirts.com/
    nike air max 2015, http://www.airmax2015.com/
    tods shoes,tods shoes sale,tods sale,tods outlet online,tods outlet store,tods factory outlet
    lebron shoes, http://www.lebronjames.us.com/
    michael kors outlet, http://www.michaelkorsoutletonline.in.net/
    chicago bulls jersey, http://www.chicagobullsjerseys.net/
    michael kors outlet online, http://www.michaelkorsoutletonlinestores.us.com/
    bears jerseys, http://www.chicagobearsjerseys.us/
    mizuno shoes, http://www.mizunorunningshoes.us/
    new balance, http://www.newbalanceshoes.in.net/
    nike shoes, http://www.cheap-nikeshoes.cc/
    valentino shoes, http://www.valentinooutlet.us.com/
    cheap nfl jersey, http://www.cheap-nfljersey.us.com/
    converse shoes, http://www.converseshoes.us.com/
    vans sneakers, http://www.vans-shoes.cc/
    golden state warriors jerseys, http://www.warriorsjersey.com/
    oakley sunglasses, http://www.oakleysunglasseswholesale.us.com/
    true religion outlet, http://www.truereligionjeansoutlet.com/
    miami heat, http://www.miamiheatjerseys.net/
    nike air max 90, http://www.airmax90.us.com/
    true religion jeans, http://www.truereligionoutletstore.us.com/
    oklahoma city thunder jerseys, http://www.thunderjerseystore.com/
    lululemon pants, http://www.lululemonoutletstore.in.net/
    tory burch outlet online, http://www.toryburch.in.net/
    stuart weitzman outlet, http://www.stuartweitzmanoutlet.us/
    ed hardy outlet, http://www.edhardy.us.com/

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  15. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

इस पोस्ट पर कमेंट ज़रूर करे..
केवल नाम के साथ भी कमेंट किया जा सकता है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
My facebook ID:Sumit Tomar