हमें इ-मेल द्वारा फोल्लोव करें! और हज़ारो लोगो की तरह आप भी इस ब्लॉग को सीधे इ-मेल द्वारा पढ़े!

Monday, 18 July 2011

रात हमारी तो चाँद की सहेली है...!

क्या ये सच नहीं है कि अँधेरे को हम सब पीड़ा और अवसाद का प्रतीक मानते हैं ?



पर लोगों की बात मैं क्यूँ मानूँ ?



मेरी नज़रों ने तो कुछ और ही देखा है... कुछ और ही महसूस किया है...

ज़ेहन की वादियों से कभी उन लमहों को चुन कर देखें...

दिल जब कहीं भटक रहा हो निरुद्देश्य और दिशाविहीन..

अपने चारों ओर की दुनिया जब बेमानी लगने लगी हो ....

यहाँ तक की आप अपनी परछाई से, अपने साये से भी दूर भागने लगे हों .....

किसी से बात करने की इच्छा ना हो....




ऍसे हालात में अपना गम अपनी कुंठा ले के आप कहाँ जाएँगे..

सोचिए तो?

पर मुझे सोचने की जरूरत नहीं...

ऍसे समय मेरा हमदम, मेरा वो मित्र हमेशा से मेरे करीब रहा है..

अपनी विशाल गोद में काली चादर लपेटे आमंत्रित करता हुआ..



पहली बार इससे दोस्ती तब हुई थी जब मैंने किशोरावस्था में कदम रखा था। ये वो वक़्त था जब छुट्टी के दिनों में सात बजे के बाद घर की बॉलकोनी में मैं और मेरा दोस्त घंटों खोए रहते थे।
जाने कैसी चुम्बकीय शक्ति थी मेरे इस सहचर में कि शाम से ही उसके आने का मैं बेसब्री से इंतजार करता फिरता।



कॉलेज के दिनों में ये दोस्ती और गहरी होती गई। फ़र्क सिर्फ इतना है कि उस बंद कमरे में घुप्प अँधेरे के साथ कोई और साथ हो आया था।



अरे ! अरे ! आप इसका कोई और मतलब ना निकाल लीजिएगा।



वो तीसरा कोई और नहीं..वो गीत और गज़लें थीं जिनके बोल उस माहौल में एक दम से जीवंत हो उठते है



कभी वे दिल को सुकून देते थे...

तो कभी आँखों की कोरों को पानी...




इसलिए २००५ की फिल्म परिणीता का ये गीत जब भी मैं सुनता हूँ तो लगता है कि अरे ये तो मेरा अपना गीत है..अपनी जिंदगी में जिया है इसके हर इक लफ़्ज़ को मैंने...

गीत शुरु होता है स्वान्द किरकिरे की गूँजती आवाज से.. पार्श्व में झींगुर स्वर रात के वातावरण को सुनने वाले के पास पहुँचा देता है। शान्तनु मोइत्रा का संगीत के रूप में घुँघरुओं की आवाज़ का प्रयोग लाजवाब है और फिर स्वानंद किरकिरे के शब्द चित्र और गायिका चित्रा का स्वर मन की कोरों को भिंगाने में ज्यादा समय नहीं लेता।



रतिया कारी कारी रतिया

रतिआ अँधियारी रतिया

रात हमारी तो चाँद की सहेली है

कितने दिनों के बाद आई वो अकेली है

चुप्पी की बिरहा है झींगुर का बाजे साज



रात हमारी तो चाँद की सहेली है

कितने दिनों के बाद आई वो अकेली है

संध्या की बाती भी कोई बुझा दे आज

अँधेरे से जी भर के करनी है बातें आज

अँधेरा रूठा है,अँधेरा ऐंठा है

गुमसुम सा कोने में बैठा है



अँधेरा पागल है, कितना घनेरा है

चुभता है डसता है, फिर भी वो मेरा है

उसकी ही गोदी में सर रख के सोना है

उसकी ही बाँहों में चुपके से रोना है

आँखों से काजल बन बहता अँधेरा

तो  सुनें रात्रि गीतों की श्रृंखला में परिणीता फिल्म का ये संवेदनशील नग्मा..








15 comments:

  1. sach hi kaha hai
    us andhere, us akelepan ko mehsoos karne ka maza hi kuch aur hai

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर गीत.
    गाड़ी में अक्‍सर इसे सुनता हूं

    ReplyDelete
  3. गीत को सुनवाने का निराला अंदाज गीत को और भी खूबसूरत बना देता है, बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  4. khubsurat geet bhai! parineeta ke saare gaane achchhe the... kasto mazaa ka video ... mere sapno ki raani waale video ki yaad dilaa deta hai. parineeta ke gaane se aise hi dimaag mein aa gaya :-)

    ReplyDelete
  5. wakai madur geet hai
    aur us akelepan se dosti karwane ke liye aapko dhanyawad

    ReplyDelete
  6. रश्मि नेगीSunday, February 03, 2013 12:43:00 pm

    पसंद तो ये हमारी भी है
    इस तरह के कुछ गिने-चुने गीत हैं जो आपके उन मित्र के साथ हम भी सुन्ना पसंद करते है

    आपकी वजह से आज काफी दिनों बाद इस गीत को सुनने का मौका मिला
    शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. रात की तन्हाई में
    दिन के उजालों से दूर
    सजती है महफिल मेरी
    जब तुम आते हो सपनों में
    दिन भर की थकान से दूर
    चंचल मन को मिलता है ठौर
    आंखों में समा जाते हो तुम
    क्यों कहते हैं लोग कि
    अंधेरा किसी काम का नहीं
    अंधेरों में ही मिलती है रोशनी
    रात की तन्हाई में
    तलाश होती है मेरी पूरी
    जिनको ढूंढता रहा उजालों में
    वो मिले मुझे रात के अंधियारे में
    तुम जब आते हो सपनों में
    तो मिल जाता है जीवन का लक्ष्य
    बस यूं ही आते रहना सपनों में
    तुम आते हो तो
    बनी रहती है
    हिम्मत और ताकत
    क्योंकि मुझे लड़ना है
    दिन के उजालों से
    पाना है अपना लक्ष्य और
    पहुंचना है मंजिल पर.
    बस यूं ही आते रहना
    रात की तन्हाई में

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत गीत है
    और मुझे भी बेहद पसंद है

    ReplyDelete
  9. 7guowenha0921
    puma outlet, http://www.pumaoutletonline.com/
    salomon shoes, http://www.salomonshoes.us.com/
    instyler, http://www.instylerionicstyler.com/
    cheap nba jerseys, http://www.nbajerseys.us.com/
    ysl outlet, http://www.ysloutletonline.com/
    coach outlet store, http://www.coachoutletonline-store.us.com/
    michael kors outlet online, http://www.michaelkorsoutletusa.net/
    nfl jersey wholesale, http://www.nfljerseys-wholesale.us.com/
    pandora outlet, http://www.pandorajewelryoutlet.us.com/
    atlanta falcons jersey, http://www.atlantafalconsjersey.us/
    boston celtics, http://www.celticsjersey.com/
    miami dolphins jerseys, http://www.miamidolphinsjersey.com/
    iphone 6 cases, http://www.iphonecase.name/
    cheap uggs, http://www.uggboot.com.co/
    gucci,borse gucci,gucci sito ufficiale,gucci outlet
    beats by dre, http://www.beats-headphones.in.net/
    oakley sunglasses, http://www.oakleysunglasses-wholesale.us.com/
    ralph lauren polo, http://www.ralphlaurenoutlet.in.net/
    lacoste pas cher, http://www.polo-lacoste-shirts.fr/
    jordan 13, http://www.airjordan13s.com/
    mbt shoes outlet, http://www.mbtshoesoutlet.us.com/
    louis vuitton handbags outlet, http://www.louisvuittonhandbag.us/
    true religion canada, http://www.truereligionjeanscanada.com/
    oakley canada, http://www.oakleysunglassescanada.com/
    jets jersey, http://www.newyorkjetsjersey.us/
    coach outlet store, http://www.coachoutletus.us/
    michael kors uk, http://www.michaelkorsoutlets.uk/
    cardinals jersey, http://www.arizonacardinalsjersey.us/

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

इस पोस्ट पर कमेंट ज़रूर करे..
केवल नाम के साथ भी कमेंट किया जा सकता है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
My facebook ID:Sumit Tomar