हमें इ-मेल द्वारा फोल्लोव करें! और हज़ारो लोगो की तरह आप भी इस ब्लॉग को सीधे इ-मेल द्वारा पढ़े!

Friday, 30 December 2011

मैं तो पढ़-लिख गयी सहेली..







दोस्तों, काफी दिनों से एक दिली इच्छा थी की अपनी ये पंक्तियाँ आप सब के बीच शेयर करू....
और देखिये
आखिर आज साल के आखिरी दिन हमें ये मौका मिल ही गया...!
:)
आप सभी के विचार संग्रहणीय होंगे... 




मैं तो पढ़-लिख गयी सहेली..

खेल न पायी बचपन में,
झिड़की-तानो से खेली!
खूब सताया
निबल बताया,
कितनी आफत झेली!


समझ न पाए
नारी का मन
बस कह दिया पहेली!
अब मेरे घर भी पढ़े
जमीलो, फूलो और चमेली!
मैं तो पढ़-लिख गयी सहेली..


हमको कभी न
मानुस समझा,
समझा गुड़ की भेली!
चीज़ सजाने की माना,
दमका ली महल-हवेली!

बचपन से ही बोझ कहा,
सारी आज़ादी ले ली!
हाथ की रेखा
बदली मैंने,
देखो मेरी हथेली!
मैं तो पढ़-लिख गयी सहेली..


दुनिया भर की खबरे बांचे,
समझे सभी पहेली,
अब न दबेगी,
अब न सहेगी,
समझो नहीं अकेली!

ओ भारत के नए ज़माने,
तेरी नारी नवेली!
पढ़-लिख कर अब
नयी चेतना से
दमको अलबेली!
मैं तो पढ़-लिख गयी सहेली..

Saturday, 22 October 2011

कितनी आदतें..? कितने उपाय..?


इंटरनेट पर व्यक्तित्व विकास के ऊपर बहुत उपयोगी लेखों की भरमार सी हो गयी है.
यह स्वाभाविक है कि हर व्यक्ति अपने जीवन के किसी-न-किसी पक्ष में हमेशा ही कुछ सुधार लाना चाहता है
इसलिए यहाँ ऐसे बहुत से लोग हैं जो इसकी उपयोगिता को समझते हैं और दूसरों को जाग्रत करने के लिए इसके बारे में बहुत कुछ लिखते भी हैं.
जो कोई भी इसपर कुछ लिखता है उसका अपना कुछ अनुभव और रणनीतियां होती हैं इसलिए मैं यह मानता हूँ कि उसकी सलाह में कुछ वज़न होना चाहिए.
किसी दूसरे के अनुभव से कुछ सीखने में कोई बुराई नहीं है क्योंकि यह ज़रूरी तो नहीं कि हम सदैव स्वयं ही गलतियाँ करके सीखते रहें!
तो यह अच्छी बात है कि बहुत से लोग जीवन और कामकाज को बेहतर बनाने के लिए अपने विचार और अनुभव हमसे बांटते हैं.
मैं तो यही मानकर चलता हूँ कि ये व्यक्ति जेनुइन हैं और इन विषयों पर जितना पढ़ा-लिखा जाये उतना ही अच्छा होगा.
सफलता का कोई एक मार्ग नहीं है जिसपर चलकर आप निश्चित रूप से इसे पा सकें. हर व्यक्ति अपनी बनाई राह पर चलकर ही सफल होता है या स्वयं में उल्लेखनीय परिवर्तन कर पाता है –
यह बात और है कि आप दूसरों द्वारा बनाई पगडंडियों का सहारा लेकर आगे बढ़ने का हौसला जुटाते हैं.
इतना सब होने के बाद भी यहाँ ऐसा कुछ है कि बहुत सारे लोग (मैं भी) व्यक्तित्व विकास के भंवर में कूदकर फंस जाते हैं.
ज्यादातर लोग ढेरों ब्लॉग्स को बुकमार्क या सबस्क्राइब कर लेते हैं.
वे ऐसे बिन्दुओं के बारे में तय कर लेते हैं जिनपर उन्हें काम करना है और अगले दिन से ही जीवन में आशातीत परिवर्तन की अपेक्षा करने लगते हैं.
उसके दूसरे दिन वे अपने जीवन में उतारने के लिए कुछ और बातें छांट लेते हैं और नित-नए खयाली पुलाव बनाने लगते हैं.
यहाँ एक ही समस्या है जिससे सभी जूझते हैं और वह यह है कि शॉर्ट-टर्म उपाय कभी भी लॉंग-टर्म सुधार की ओर नहीं ले जा सकते.
अपने व्यक्तित्व में दस नए सुधार लाने के स्थान पर यदि लोग केवल चार सुधार ही लागू करने के बारे में सोचें तो भी इसमें सफलता पाने का प्रतिशत नगण्य है.
किसी भी व्यक्ति के चित्त की दशा और उसके कामकाज की व्यस्तता के आधार पर तीन या अधिकतम दो सुधार ला सकना ही बहुत कठिन है.
आप चाहें तो एक झटके में ही स्वयं में पांच सकारात्मक परिवर्तन ला सकते हैं.
उदाहरण के लिए:
आप सुबह जल्दी उठना, रोजाना व्यायाम करना, शक्कर का कम सेवन करना,
अपनी टेबल को व्यवस्थित रखना, स्वभाव में खुशमिजाजी लाना आदि कर सकते हैं हांलांकि लंबी अवधि के लिए इन सरल उपायों को साध पाना ही कठिन है और अक्सर ही इनमें से एक-एक करके सभी सकारात्मक उपाय आपका साथ छोड़ देते हैं.
आपकी असफलता के पीछे आपका मानसिक अनुकूलन (mental conditioning) है.
कुछ रिसर्च में यह पता चला है कि एक सरल आदत को व्यवहार में लाने के लिए अठारह दिन लग जाते हैं और कठिन आदत को साधने में तीस से चालीस दिन लगते हैं.
ऐसी रिसर्च कई बार बेतुकी भी होती हैं पर क्या आपको वाकई यह लगता है कि आप अपनी घोर व्यस्त दिनचर्या में तमाम ज़रूरी काम को अंजाम देते हुए अपना पूरा ध्यान पांच नयी आदतें ढालने या सुधारने में लगा सकते हैं?
नहीं. मुझे तो ऐसा नहीं लगता..!
ठहरिये. ज़रा सांस लीजिये…
कुछ पल के लिए रुकें. ऐसी एक दो बातों को तलाशिये जो आप वाकई कर सकते हों और अगले दो-तीन सप्ताह तक पूरे मनोयोग से उन्हें साधने का प्रयत्न करें.
कुछ समय बाद आपको उन्हें यत्नपूर्वक नहीं करना पड़ेगा और वे आपकी प्रकृति का अंग बन जायेंगीं.
और ऐसा कर लेने के बाद ही आपको यह पता चल पायेगा कि आप किसी नयी आदत या कौशल को साधने के लिए कितने अनुकूल हैं.
मैं आपसे यह नहीं कह रहा हूँ कि व्यक्तित्व विकास के ब्लॉग्स पढ़ना बंद कर दें.
कई बार तो ऐसा होता है कि किसी चीज़ को पढ़ने से होनेवाले मनोरंजन से भी उसे पढ़ने का महत्व बढ़ जाता है.
जब भी आप मेरे ब्लॉग या अन्य ब्लौगों की पोस्ट पढ़ें तो यह न सोचें कि आपको इन बातों को अपने रोज़मर्रा के जीवन में उतारना ही है –
यदि ऐसा है तो आप मेरे प्रयासों को व्यर्थ ही कर रहे हैं.


यदि आपको कुछ अच्छा लगे तो आप उसे कहीं लिख डालें और प्राथमिकता के अनुसार उन्हें सूचीबद्ध कर लें.
इस सूची में आप वरीयता के अनुसार अपने जीवन में छोटे-छोटे परिवर्तन लाने के लिए किये जाने वाले उपायों को लिख सकते हैं.
केवल एक या दो उपायों को अपना लें, उन्हें अच्छी आदत में विकसित करें, और आगे बढ़ जाएँ.
इस तरह आप वाकई अपने में कुछ सुधार का अनुभव करेंगे अन्यथा आप केवल सतही बदलाव का अनुभव की करते रह जायेंगे.
ध्यान दें, यदि मनोयोग से कुछ भी नहीं किया जाए तो सारे प्रयत्न व्यर्थ जाते हैं और झूठी सफलता को उड़न-छू होते देर नहीं लगती.
अब सबसे ज़रूरी काम यह करें कि इस पोस्ट को स्वयं में सुधार लाने का सबसे पहला जरिया बनाएं…
न पांचवां, न सातवाँ, बल्कि सबसे पहला..!

Wednesday, 14 September 2011

भारत के विश्वकर्मा : विशेश्वरैया

परतंत्र भारत में अपनी बौद्धिक योग्यता व यांत्रिक कुशलता के बल पर दुनिया भर में भारतीय प्रतिभा का डंका बजाने वाले मोक्षगुण्डम विशेश्वरैया जिनको 'भारतीय अभियांत्रिकी का जनक' माना जाता है, की जयंती 15 सितम्बर को प्रतिवर्ष 'इंजीनियर्स डे' के रूप में मनाया जाता है।
विशेश्वरैया द्वारा बनवाया गया कृष्णाराज सागर बांध तत्कालीन ब्रिाटिश भारत में बने जलाशयों में सबसे बड़ा है। इस बांध से एक लाख एकड़ से अधिक भूमि में सिंचाई का विस्तार हुआ, साथ ही मैसूर, बेंगलुरु व राज्य के कई गांवों व कस्बों में स्थापित कारखानों व घरेलू इस्तेमाल के लिए बिजली मिलने लगी। इसी परियोजना के तहत कावेरी नदी की बायीं ओर वाली नहर को एक पहाड़ी में पौने दो मील लम्बी एक सुरंग बनाकर उसमें से गुजारी गई। सिंचाई नहर की यह सुरंग भारत में सबसे लम्बी है। मैसूर के इंजीनियरिंग विभाग द्वारा तैयार की गयी रिपोर्ट के मुताबिक इस परियोजना पर लगभग 10 करोड़ रुपये खर्च हुए थे जबकि कुछ ही वर्षों बाद इससे जनता को 15 करोड़ का वार्षिक लाभ होने लगा। साथ ही राज्य को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष करों द्वारा एक करोड़ की अतिरिक्त आमदनी होने लगी।

महात्मा गांधी ने सार्वजनिक सभा में कहा था 'कृष्णाराज सागर बांध जो देश के प्रमुख जलाशयों में से एक है, विशेश्वरैया जी की कीर्ति बढ़ाने के लिए पर्याप्त है।' इसी तरह, पूना नगर के पास बहने वाली एक नहर में लेक फाइव झील का पानी गिरता। उस पर बांध बहुत पुराने ढंग से बना हुआ था जिसके चलते बहुत सा पानी बर्बाद हो जाता था और शहर में पानी की कमी बनी रहती थी। विशेश्वरैया ने  इस समस्या के निदान की एक नई विधि ढूंढ निकाली। झील की सतह ऊंची होने के कारण उसमें बरसात का पानी पूरा नहीं रुक पाता था। 
फलत: जब पानी बांध की चोटी से 7-8 पुट ऊपर चढ़ता तो बाहर निकल कर बहने लगता। झील की सतह को गहरा बनाना संभव नहीं था। इसलिए उन्होंने बांधों के लिए स्वचालित फाटकों की एक अभिनव योजना बनाई। बांध में कई ऐसे फाटक लगाये गये जो  पानी के ऊपर चढ़ने पर उसे 8 फुट की ऊंचाई तक रोके रखता मगर जब पानी इससे भी ऊपर चढ़ता तो ये फाटक खुद खुलकर फालतू पानी बाहर निकाल देते। इस योजना से झील के पानी की मात्रा 25 प्रतिशत बढ़ गयी और शहरवासियों के पानी के संकट की समस्या भी हल हो गयी।

शुरू में तो गोरे इंजीनियरों को विश्वास नहीं हुआ कि कोई भारतीय इंजीनियर भी ऐसा कर सकता है। बाद में ऐसे फाटक ग्वालियर व मैसूर के बांधों में भी लगाये गये तो अंग्रेज इंजीनियरों को भारतीय मस्तिष्क का लोहा मानना पड़ा। अदन (बंदरगाह जो ब्रिाटिश भारत के शासनाधिकार में ही था) में विशेश्वरैया ने सफाई व पेयजल के अलग-अलग नलों की ऐसी व्यवस्था की ब्रिाटिश अधिकारियों के मन में उनकी योग्यता व ईमानदारी का सिक्का जम गया।

इसी तरह, जब सक्खर (सिंधु) में वाटर वक्र्स बनाने में मुख्य कठिनाई थी कि सिंधु नदी के गंदे पानी की निकासी के लिए तीन टंकियों के निर्माण हेतु नगरपालिका के पास धन नहीं था। विशेश्वरैया ने नदी तट के समीप दो कुएं खोदकर उनका जल पम्प द्वारा वाटर वक्र्स के तालाब में भेजने की योजना बनाई। इस तरह काफी कम खर्च में नगर को पर्याप्त मात्रा में जल मिलने लगा। गवर्नर लार्ड सैण्डहस्ट ने एक शिलालेख लगाकर उनकी प्रशंसा की।

इस कार्य के उपरांत आपको पूना जिले की सिंचाई व्यवस्था में सुधार का दायित्व मिला। यह भूभाग बम्बई प्रांत में सिंचाई की दृष्टि से दूसरे नम्बर का समझा जाता था मगर नहरों के पानी के वितरण की उचित व्यस्था के अभाव में बहुत सा पानी बर्बाद हो जाता था। इसके लिए उन्होंने यह योजना बनायी कि प्रत्येक क्षेत्र के किसानों को बारी-बारी से 10 दिन तक पानी मिले। कई किसानों ने इसका विरोध किया। मगर विशेश्वरैया ने एक सभा में और एक बड़ी समस्या सहज ही सुलझ गई।

विशेश्वरैया बजट के अनुसार कार्य करने वाले देश के प्रथम अभियंता थे। 1930 में बम्बई विश्वविद्यालय ने उन्हें 'डॉक्टरेट' की मानद उपाधि से सम्मानित किया। ब्रिटिश सरकार ने भी उन्हें 'सर' की उपाधि और भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद ने सर्वोच्च अलंकरण 'भारत रत्न' प्रदान किया। विशेश्वरैया के जीवनकाल में ही 1961 में उनकी जन्म सदी धूमधाम से मनाई गई। साल भर बाद 14 अप्रैल 1962 को उनका निधन हो गया।


आज इंजीनियर्स डे है
आज के दिन हमें देश के सभी इंजीनियर्स का सम्मान करना चाहिए
जिन्होंने इस देश की प्रगति में अपना बहुमूल्य योगदान दिया है
देश के सभी इंजीनियर्स आज अपने आप को गोरवान्वित महसूस करें
चाहे जितना भी हो
उनका भी योगदान कहीं न कहीं किसी बड़े कार्य को पूरा करने में
शामिल है


इंजीनियर्स डे पर सभी को शुभकामनाएं..

Monday, 5 September 2011

शिक्षक दिवस: क्या शिक्षा के ज़रिए अज्ञान का अंधकार दूर ना कर पाने का भयानक अपराध ‘शिक्षकों’ के मथ्थे नहीं मढ़ा जाना चाहिए

 आज शिक्षक दिवस है। सारे अखबार या तो शिक्षकों की बदहाली अथवा प्रशंसा से भरे हुए हैं। अच्छी बात है, जो शिक्षक हमें एक सफल सामाजिक प्राणी बनाने के लिए अपनी रचनात्मक भूमिका निभाकर एक महान कार्य करता है, उसके प्रति कृतज्ञता का भाव प्रदर्शित करना एक सुशिक्षित व्यक्ति के लिए लाज़मी है और दूसरी और इस महती सामाजिक कार्य की जिम्मेदारी उठाने वाली महत्वपूर्ण इकाई के प्रति सरकार के असंवेदनशील रुख की भर्त्सना करना भी उतना ही ज़रूरी है।
    सरकार का शिक्षकों को दोयम दर्ज़े के सरकारी कर्मचारी की तरह ट्रीट करना, उनके वेतन, भत्तों, सुख-सुविधाओं के प्रति दुर्लक्ष्य करना, उन्हें जनगणना, पल्स पोलियों, चुनाव आदि-आदि कार्यों में उलझाकर शिक्षा के महत्वपूर्ण कार्य से विमुख करना, इनके अलावा और भी कुछ ऐसे मुद्दे हैं जो एक शिक्षक की भूमिका और महत्व को सिरे से खारिज करते से लगते हैं। लेकिन, इस सबसे परे, शिक्षकों की अपनी कमज़ोरियों, अज्ञान, कुज्ञान, अवैज्ञानिक चिंतन पद्धति, भ्रामक एवं असत्य धारणाओं के वाहक के रूप में समाज में सक्रिय गतिशीलता के कारण आम तौर पर मानव समाज का और खास तौर पर भारतीय समाज का कितना नुकसान हो रहा है, यह हमारे लिए बड़ी चिंता का विषय है।
  
  पिछले दो-तीन सौ साल मानव सभ्यता के करोड़ों वर्षों के इतिहास में, विज्ञान के विकास की स्वर्णिम समयावधि रही है। इस अवधि में प्रकृति, विश्व ब्रम्हांड एवं मानव समाज के अधिकांश रहस्यों पर से पर्दा उठाकर सभ्यता ने व्यापक क्रांतिकारी करवटें ली हैं। एक अतिप्राकृतिक सत्ता की अनुपस्थिति का दर्शन भी इसी युग में आविर्भूत हुआ है जिसकी परिणति दुनिया भर में मध्ययुगीन सामंती समाज के खात्में के रूप में हुई थी जिसका अस्तित्व ही ईश्वरीय सत्ता की अवास्तविक अवधारणा पर टिका हुआ था।
    भारतीय समाज में सामंती समाज की अवधारणाओं, मूल्यों का पूरी तौर पर पतन आज तक नहीं हो सका है और ना ही वैज्ञानिक अवधारणाओं की समझदारी, आधुनिक चिंतन, विचारधारा का व्यापक प्रसार ही हो सका है। बड़े आश्चर्य की बात है कि जिस समाज में ’सत्य-सत्य‘ का डोंड सामंती समय से ही पीटा जाता रहा हो उस समाज में ’सत्य‘ सबसे ज़्यादा उपेक्षित रहा है।
   
 हमें आज़ाद हुए 64 वर्ष से ज़्यादा हो गए, देश आज भी सामंत युगीय अज्ञान एवं कूपमंडूकता की गहरी खाई में पड़ा हुआ है। धर्म एवं भारतीय संस्कृति के नाम अवैज्ञानिक क्रियाकलापों कर्मकांडों का ज़बरदस्त बोलबाला हमारे देश में देखा जा सकता है। 
क्या शिक्षक का यह कर्त्तव्य नहीं था कि वह ’सत्यानुसंधान‘ के अत्यावश्यक रास्ते पर चलते हुए भारतीय समाज को इस अंधे कुएँ से बाहर निकालें ?
 क्या ’धर्म‘ की सत्ता को सिरे से ध्वस्त कर स्वतंत्रता, समानता, भाईचारे की संस्कृति को रोपने, वैज्ञानिक चिंतन पद्धति के आधार पर भारतीय समाज का पुनर्गठन करने की जिम्मेदारी ’शिक्षकों‘ की नहीं थी ? 
क्या शिक्षा के ज़रिए अज्ञान का अंधकार दूर ना कर पाने का भयानक अपराध ’शिक्षकों‘ के मथ्थे नहीं मढ़ा जाना चाहिए जिसने हमारे देश को सदियों पीछे रख छोड़ा है ? 
क्या मध्ययुगीन अवधारणाओं के दम पर विश्व गुरू होने का फालतू दंभ चूर चूर कर, वास्तव में ज्ञान की वह ’सरिता‘ प्रवाहित करना एक अत्यावश्यक ऐतिहासिक कार्य नहीं था जिसके ना हो सकने का अपराध किसी और के सिर पर नहीं प्रथमतः शिक्षकों के ही सिर पर है।
    
अब भी समय है, प्रकृति मानव समाज एवं विश्व ब्रम्हांड के सत्य को गहराई में जाकर समझने और एकीकृत ज्ञान के आधार पर भारतीय समाज में व्याप्त अंधकार को दूर करने की लिए प्रत्येक शिक्षक आज भी अपनी भूमिका का निर्वाह कर सकता है, बशर्ते वह अपने तईं ना केवल ईमानदार हो बल्कि सत्य के लिए प्राण तक तजने को तैयार हो।

Sunday, 14 August 2011

हमारा देश और हम (स्वतंत्रता दिवस)

...स्वतंत्रता दिवस की मेरे सभी देशवासियों को शुभकामनाएं

,आज हम दुनिया के उन ताकतवर देशो में सामिल हैं जो अनेक प्रकार की तकनीकों से संपन्न हैं
हमारा शिक्षा का स्तर और विकास दर भी सुधरी है...

बस ये आतंकवाद, भ्रष्टाचार और कुछ इसी प्रकार की और वजहों से हमारा विकास आज भी बाधित है,
पर ख़ुशी की बात यह है की इतने सब के बाद भी हमारी एकता में कोई कमी नहीं है.
हम सब आज भी साथ-साथ हैं..





हम एक दुसरे का हाथ पकड़ कर खुद भी आगे बढ़ेंगे


और


देश को भी बढ़ाएंगे!!!





जिनके बलिदान की वजह से आज हम आज़ाद हैं या महफूज़ रह रहे हैं,
उन शहीदों के लिए लिखी
जावेद अख्तर साहब की ये पंक्तियाँ
आप लोगो के बीच शेयर करना चाहूँगा..!



खामोश है जो यह वो सदा है, वो जो नहीं है वो कह रहा है , 
साथी यु तुम को मिले जीत ही जीत सदा |
बस इतना याद रहे ........ एक साथी और भी था || 


जाओ जो लौट के तुम, घर हो खुशी से भरा, 
बस इतना याद रहे ........ एक साथी और भी था ||


कल पर्वतो पे कही बरसी थी जब गोलियां , 
हम लोग थे साथ में और हौसले थे जवां | 
अब तक चट्टानों पे है अपने लहू के निशां , 
साथी मुबारक तुम्हे यह जश्न हो जीत का , 
बस इतना याद रहे ........ एक साथी और भी था || 


कल तुम से बिछडी हुयी ममता जो फ़िर से मिले , 
कल फूल चहेरा कोई जब मिल के तुम से खिले , 
पाओ तुम इतनी खुशी , मिट जाए सारे गिले, 
है प्यार जिन से तुम्हे , साथ रहे वो सदा , 
बस इतना याद रहे ........ एक साथी और भी था || 

जब अमन की बासुरी गूजे गगन के तले, 
जब दोस्ती का दिया इन सरहद पे जले , 
जब भूल के दुश्मनी लग जाए कोई गले , 
जब सारे इंसानों का एक ही हो काफिला , 
बस इतना याद रहे ........ एक साथी और भी था ||

बस इतना याद रहे ........ एक साथी और भी था ||




************






और ध्यान रखें
सिर्फ हमारा खुद का ही नहीं,
बल्कि हमारे देश का भविष्य भी हमारे हाथों में है!




ना आप हिन्दू हैं... ना मुसलमान!
आप सिर्फ़ और सिर्फ़ एक हिन्दुस्तानी हैं!!!





यहाँ पर राम बसता है, यहाँ रहमान बसता है
यहाँ हर ज़ात का, हर क़ौम का इन्सान बसता है;
जो हिन्दू हो तो क्या तुम ही फ़क़त हिन्दुस्तानी हो
यहाँ हर एक मुस्लिम दिल में हिन्दुस्तान बसता है.


अगर हो जंग नफ़रत से, मोहब्बत जीत जाती है
दिलों में हौसला कम हो तो दहशत जीत जाती है
मिलन की आस में 'गर हो शम्श की गर्मी 
तो फ़िर फ़िरऔन भी आये, सदाक़त जीत जाती है!!

वन्दे मातरम।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
My facebook ID:Sumit Tomar